किसान कर्जमाफी: रंग-बिरंगे आवेदन भरवाकर रंग बदल रही सरकार: शिवराज सिंह

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Ex CM SHIVRAJ SINGH CHOUHAN) ने कहा कि मैं काँग्रेस को उनके वचन पत्र की याद दिलाते हुए कहना चाहता हूँ कि आपने प्रत्येक किसान का 2 लाख तक का कर्ज़ माफ करने की घोषणा की थी, फिर अब किन्त, परंतु और आवेदन भरवाने की प्रक्रिया क्यों ? उन्होंने कहा कि इतने किन्तु, परंतु के बीच ये भी स्पष्ट नहीं हो पा रहा है कि किसका कर्जा माफ होगा और किसका नहीं। 

श्री चौहान ने काँग्रेस सरकार की कर्जमाफ़ी की योजना पर सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार कर्ज माफ़ी के नाम पर अलग-अलग रंगों के आवेदन भरवाकर प्रदेश के किसानों को भ्रमित कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार के पास सहकारी एवं राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्जदार किसानों की सूची है, उसके माध्यम से सरकार किसानों की दो लाख तक की कर्जमाफ़ी कर के किसानों को प्रमाण पत्र सौंपे। उन्होंने कहा कि मैं सरकार से कहना चाहता हूं कि जो वादे आपने सत्ता हासिल करने के लिए प्रदेश की जनता से किए हैं, उन्हें जल्द से जल्द अक्षरशः पूरा करें। 

प्रक्रिया लंबी करके समय काट रही सरकार

श्री चौहान ने प्रदेश की काँग्रेस सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि किसानों की कर्जमाफ़ी को लेकर सरकार अपनी मंशा स्पष्ट करे। कहीं सरकार इन आवेदनों की आड़ में महीने दो महीने का समय तो काटना नहीं चाहती है, जिससे कि लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लग जाये और काँग्रेस इसका बहाना लेकर कर्जमाफ़ी से पल्ला झाड़ सके। उन्होंने कमलनाथ सरकार को वचन पत्र की याद दिलाते हुए कहा कि आपने कहा था कि बिजली का बिल हॉफ होगाए फिर अब क्या हुआ। बिल हॉफ करना तो दूर कई जगह तो संबल योजनाओं के पोर्टल तक ने काम करना बंद कर दिया है।