दांत में दर्द था, डॉक्टर ने बेहोश करके गर्दन काट दी !

होशंगाबाद। ड्राइवर वीरेंद्र उर्फ वीरू के दांत में दर्द था। वो हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. सुनील मंत्री (Doctor Sunil Mantri) के पास पहुंचा। डॉक्टर ने उसे बेहोशी का इंजेक्शन दिया और फिर गर्दन काट दी। उसके शरीर के 500 से ज्यादा टुकड़े किए फिर एसिड से गलाकर पूरी लाश को डंप करने वाला था कि खुलासा हो गया। यह दावा पुलिस ने किया है। 

कैसे हुआ खुलासा

कहा जा रहा है कि ड्राइवर वीरेन्द्र पचौरी उर्फ वीरू (Virendra Pachauri) की पत्नी से डॉक्टर के अवैध संबंध थे। जिसका फायदा उठाकर वह एक साल से डॉक्टर को ब्लैकमेल कर रहा था। हत्या की बात वीरू के पिता के शोर की वजह से सामने आई। वो बेटे को ढूंढते हुए मंगलवार को वह डॉक्टर के घर पहुंचे। जहां दोनों के बीच हुए विवाद के बीच किसी ने पुलिस को इसकी जानकारी दे दी। वीरू के पिता के कहने पर पुलिस ने जब घर की तलाशी ली, तो ड्राइवर के शव के टुकड़ों को एसिड सहित नाले में बहाने की डॉक्टर की खौफनाक साजिश का पर्दाफाश हो गया।

बाथरूम का दरवाजा खोलते ही चीख उठा कॉन्स्टेबल

पुलिस की टीम जब डॉक्टर के घर तलाशी ले रही थी, तब घर के बाहर आसपास रह रहे लोगों की भीड़ लग गई। जैसे ही एक कॉन्स्टेबल ने बाथरूम का दरवाजा खोला चीखते हुए बोला- साब! जल्दी आओ, इधर कुछ है। अंदर 4 आरियां थीं। उसके बीच में सीधे पैर के एक दर्जन टुकड़े सहित छोटे-छोटे टुकड़े थे। वहीं, टॉयलेट के बाहर एसिड से भरा ड्रम मिला। जिसमें ड्राइवर वीरू के सिर और हाथ तैर रहे थे। पुलिस को नीचे हॉल में भी जगह-जगह खून के निशान, डॉक्टर के हाथ पोंछने के कपड़े, हाथ के दस्ताने खून से सने पड़े मिले। ड्राइवर की हत्या की सूचना मिलने पर पुलिस ने पूरे मकान को अपने कब्जे में ले रखा था। मंगलवार रात 9.30 बजे बोरे में शव के टुकड़ों को ले जाया गया।

 

डॉक्टर की पत्नी और ड्राइवर की पत्नी पार्टनर थी

डॉ. की पत्नी की एक साल पहले मौत हो चुकी है। वह घर में अकेला रहता था। परिवार में एक बेटा और बेटी है। दोनों मुंबई में रहते हैं। ड्राइवर की पत्नी और आरोपी की पत्नी बुटीक चलाती थीं। इसी वजह से घर में ड्राइवर की पत्नी का आना-जाना था। मृतक की पत्नी को शिनाख्त के लिए डॉक्टर के घर लाया गया, तो बोली- देख नहीं पाऊंगी पर तीन घंटे बैठी रही, आंसू तक नहीं आए। पुलिस मृतक की पत्नी से पूछताछ करेगी।