10वीं बोर्ड परीक्षा: मुरैना में विज्ञान का पेपर सोशल मीडिया पर हुआ लीक!

मुरैना में जिला प्रशासन और शिक्षा विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है. मध्यप्रदेश बोर्ड का 10वीं कक्षा का विज्ञान विषय का पेपर परीक्षा समय से ठीक पहले लीक हो गया और जब परीक्षा होने के बाद लीक पेपर का मिलान मूल पेपर से किया गया तो, वह बिल्कुल सही निकला. मध्यप्रदेश में जहां एक बार फिर नकल माफिया जिला प्रशासन को चुनौती पेश कर रहा है, तो वहीं कलेक्टर महोदया प्रियंका दास व जिला शिक्षा अधिकारी अपनी जिम्मेदारियों से परे हटकर जांच की बात कह रहे हैं.

मुरैना में शिक्षा माफिया हमेशा से ही जिला प्रशासन पर हावी रहा है. यहां ठेके पर नकर कराने का विश्वास देकर छात्रों से एक मोटी रकम वसूली जाती है, फिर सोशल मीडिया पर पेपर लीक किया जाता है. इस तरह का मुरैना में कोई पहला मामला नहीं है. मामले में कलेक्टर प्रियंका दासे ने पेपर लीक होने की बात से इंकार कर दिया और मीडिया से ही पेपर मांगने लगी. इसके बाद उन्होंने मामले की जांच का आश्वासन दिया.

जिले में बोर्ड परीक्षाओं के पेपर लीक होने का यह पहला मामला नहीं है. इससे पहले भी यहां पेपर लीक होते आये हैं. नकल माफिया और शिक्षा विभाग की सांठ-गांठ के चलते ही यहां बोर्ड परीक्षाओं के पेपर लीक हो जाते हैं. साल 2016 में व्हाट्सएप पर पेपल लीक की जांच सही तरह से हुई, जिसके बाद शिक्षा विभाग से जुड़े लोगों पर कार्रवाई भी की गई. हालांकि शिक्षा विभाग के अधिकारी अभी भी जांच की बात कह रहे हैं.