सोशल मीडिया पर दोस्ती की और फिर इस विदेशी ने ठग लिए करोड़ों रुपए

 

स्टेट सायबर क्राइम पुलिस ने नाइजीरिया के एक ठग दंपति को गिरफ्तार किया है, जो फेसबुक पर दोस्ती कर लोगों को अपना निशाना बनाते थे. मेडिकल वीजा पर दिल्ली आया ये दंपति डेढ़ साल में कई लोगों को ठग चुका है.

भोपाल की एक महिला ने सायबर क्राइम थाने में शिकायत की थी कि अज्ञात लोगों ने उससे 10 लाख रुपए ठग लिए. फर्जी फेसबुक प्रोफाइल पर दोस्ती करने के बाद उसे ठगा गया. आरोपियों ने खुद को अमेरिका में नौकरीपेशा बताया था. इसके बाद अमेरिका से एक गिफ्ट इंडिया भेजा गया. इस गिफ्ट को छुड़वाने के एवज में इस दंपति ने खुद को कस्टम विभाग का अधिकारी बताया और फिर एसबीआई के तीन अकाउंट में दस लाख ट्रांसफर करा लिए.शक होने पर महिला ने सायबर क्राइम पुलिस की मदद ली.
इस शिकायत के आधार पर जब तकनीकी साक्ष्यों की मदद से मामले की जांच की गयी तो आरोपी ट्रेस हो गए. बस उसके बाद सायबर क्राइम पुलिस ने इस आरोपी दंपति को दिल्ली में गिरफ़्तार कर लिया. आरोपियों के नाम स्टीफन चुकवूमा ओका और उसकी पत्नी विवियन अघलोर हैं. दंपति डेढ़ साल पहले मेडिकल वीजा पर दिल्ली पहुंचा था. लंबे समय से वो तिलक नगर में रह रहा था. सोशल मीडिया पर फर्जी प्रोफाइल बनाकर लोगों से दोस्ती करता था और फिर कस्टम विभाग से गिफ्ट छुड़ाने के नाम पर पैसे ऐंठता था.
डेढ़ साल में ये दंपति करोड़ों रुपए ठग चुका है. आरोपियों के पास से पुलिस ने 15 मोबाइल फोन, पासबुक, लेपटॉप, सिम, विदेशी करंसी, डेबिट कार्ड और चेकबुक बरामद की हैं. उन खातों की भी जांच की जा रही है जिसमें ये आरोपी पैसा ट्रांसफर कराते थे.

सायबर क्राइम पुलिस ने आम जनता के लिए एडवाइजरी जारी की है. इसमें कहा गया है कि- सोशल मीडिया पर अंजान व्यक्ति से सावधान रहें. अज्ञात व्यक्ति से दोस्ती नहीं करें. साथ ही अपने कोई भी दस्तावेज सोशल मीडिया पर शेयर नहीं करें. शक़ होने पर तत्काल पुलिस की मदद लें.पुलिस ठगी के बाद जांच करती है, लेकिन अपनी सुरक्षा अपने ही हाथ में है.ऐसे में सावधान रहें और खुद को सुरक्षित रखें.