चिन्हित प्रकरण: महिला के साथ हुए दुष्कर्म के आरोपी गोपाल नायक निवासी कुचडौद को 07 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 05 हजार रूपयें जुर्माना 

2018-12-07 05:00:40

1 माननीय विशेष अपर जिला न्यायाधीश एट्रोसिटी एक्ट नीमच द्वारा दुष्कर्म के प्रकरण मे सुनाया निर्णय

2 घटना दिनंाक 17.07.16 को सायः 06ः30 बजे ग्राम कुचडौद निवासी पिड़ीता के साथ माताजी मंदिर जंगल में गोपाल पिता बाबुलाल नायक निवासी कुचडौद द्वारा दुष्कर्म की घटना को दिया था अंजाम 

3 महिला के साथ घटित दुष्कर्म की घटना को गंभीरता से लिया जाकर पुलिस अधीक्षक नीमच द्वारा किया था चिन्हित

            

थाना जीरन के अपराध क्रमांक 208/2016 धारा 376 भादवि एवं धारा 3(2) अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम मे घटना दिनांक 17.07.2016 को सायः 06ः30 बजे कुचडौद निवासी पिड़ीता हाथ मुॅह धोने माताजी मंदिर के जंगल की तरफ गई थी। वहाॅ आरोपी गोपाल पिता बाबुलाल नायक निवासी कुचडौद द्वारा उसे अकेला पाकर उसके साथ जबरदस्ती बलात्कार किया तथा चिल्ला चोट करने पर पिड़ीता के परिवार वाले आये तथा आरोपी गोपाल नायक को पकड़कर पुलिस के हवाले किया। पिड़ीता द्वारा घटना की रिपोर्ट पुलिस थाना जीरन पर दर्ज कराई गई। प्रकरण में पुलिस द्वारा आरोपी गोपाल नायक को विधिवत गिरफ्तार किया जाकर प्रकरण में अनुसंधान पूर्ण कर चालाना माननीय न्यायालय में कता किया गया। 

अनुसूचित जाति की महिला के साथ हुए दुष्कर्म की घटना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक नीमच द्वारा प्रकरण को चिन्हित प्रकरणों की श्रेणी में रखा जाकर माननीय न्यायालय में समय समय पर साक्षियों के कथन कराये गये। 

माननीय विशेष अपर जिला न्यायाधीश एट्रोसिटी एक्ट नीमच श्री आर.पी.शर्मा द्वारा थाना जीरन के अपराध क्रमांक 208/2016 धारा 376 भादवि एवं धारा 3(2) अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम मे पारित निर्णय दिनांक 07.12.2018 को आरोपी गोपाल पिता बाबुलाल नायक निवासी कुचडौद को बलात्कार का दोषी पाकर आरोपी को 07 वर्ष के सश्रम कारावास एवं रूपयें 05 हजार के जुर्माने से दण्ड़ित किया गया।

उक्त प्रकरण में म.प्र. शासन अभियोजन की ओर से विशेष लोक अभियोजक श्री के.पी.एस.झाला तथा गवाही में विशेष सहयोग कोर्ट मुंशी प्रधान आरक्षक दिनेश गुर्जर का रहा। 


Responses


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /home/justneemuch/public_html/description.php on line 378

Leave your comment