इस तरह करें अपनी सोच का विस्तार, जीवन होगा सरल!

2019-01-12 11:46:15

उसका फैसला अडिग था। यदि पत्नी उसकी शर्तें मानने को तैयार हो तभी दोनों साथ रहेंगे, अन्यथा कोई गुंजाइश नहीं। सभी ने समझाने-बुझाने का प्रयास किया, किंतु उसने एक न सुनी। थक-हार कर सभी एक-एक कर खिसक गए। रिश्तेदार, पड़ोसी सभी संस्कारी, मृदुभाषिणी, शिक्षित, सौम्य पत्नी के व्यवहार और चाल-चलन का लोहा मानते थे। लेकिन पति था कि अनेक भ्रांतियां अपने दिल में बैठाए हुए था और बात-बात पर पत्नी से कलह का बहाना ढ़ूंढ़ता।

जिस पात्र में पहले से कचरा भरा हो उसमें कोई उपयोगी चीज कैसे डालेंगे? पहले उसे साफ करना होगा, तभी नए के लिए स्थान बनेगा। जीवन में जगह-जगह पड़ी फालतू चीजें सड़ांध पैदा करती हैं, नियमित अंतराल पर इनकी छंटाई अनिवार्य है। मोबाइल तथा ईमेल में भरे पड़े संदेश या फाइलें इन उपकरणों को जाम करके कालांतर में इन्हें ठप कर सकती हैं। जो काम का नहीं है उसे हटाने से ही अभिनव पहल के लिए ऊर्जा, उमंग और उत्साह आएगा। आध्यात्मिक गुरु शिवानंद कहते हैं, ‘अपने मस्तिष्क में बेकार की सूचना संग्रहीत न करें, अनुपयोगी को निकाल फेंकें, तभी आपका मन उच्च विचार ग्रहण करने में समर्थ होगा।’ अवांछित, अशोभनीय वस्तुओं या विचारों को सहेजे रखने से नैराश्य पनपता है और हमारा शारीरिक तथा आध्यात्मिक बल क्षीण होता है।

उन्नयन के लिए सीखते रहना जरूरी है। जन्म से मरण तक सीखने की प्रक्रिया का नाम ही जीवन है। किंतु जाने-अनजाने बहुत कुछ नकारात्मक सीख लिया जाता है। लेखक, कारोबारी और डिजिटल मामलों के विशेषज्ञ आल्विन टॉफ्लर की राय में 21वीं सदी के निरक्षर वे नहीं जो पढ़-लिख नहीं सकते, बल्कि वे हैं जिनमें अनुपयोगी सीख को तिलांजलि दे डालने और दोबारा सही बातें सीखने का माद्दा नहीं है।

इसी प्रकार मन-चित्त में बैठा दिए गए पूर्वाग्रह और कुत्सित धारणाएं भी जीवन में अवरोध उत्पन्न करती हैं। मन अवांछित भावनाओं, भ्रांतियों, मिथ्याग्रहों, दुराग्रहों से ठुंसा होगा तो उसमें प्रगतिशील, पाक और नेक विचारों का प्रवेश कैसे होगा/ फिर तो नीरसता पसरेगी, जीवंतता ठप होगी, हम जड़ हो जाएंगे। फादर रिचर्ड रोहर ने कहा, ‘व्यक्तिगत बेहतरी में सीखने से ज्यादा अहमियत गैरजरूरी तत्वों को दरकिनार करने की होती है।’

कला, कौशल या विद्या सीखने की शर्त है कि अभी तक जो हम जानते, सोचते, समझते आए हैं उसे अंतिम सत्य न मानें और उसकी पुनरीक्षा में हिचकें नहीं बल्कि अच्छी चीजों को अपनाने के लिए तत्पर रहें। मौजूदा मान्यताओं और मूल्यों को श्रेष्ठ तथा असंशोधनीय मानते हुए इनमें जकड़े रहने का अर्थ है नए के प्रति संशय या दुराव भाव को सींचते रहना।

भले ही व्यक्ति अपने क्षेत्र में पारंगत हो, अगर उसके मन में यह घर कर जाए कि इससे आगे शेष कुछ नहीं तो उसकी वैचारिक प्रगति अवरुद्ध समझें। शरीर में नई कोशिकाएं इसलिए जन्म लेती हैं ताकि पुरानी को प्रतिस्थापित कर दिया जाए। बेहतरी का सही निर्णय वही लेगा जो मौजूदा धारणाओं और मान्यताओं की पुनरीक्षा में समर्थ है। इस परिवर्तनशील संसार में प्रत्येक उच्चतर स्तर में आपको अभिनव संस्करण के तौर पर स्वयं को प्रस्तुत करना होगा। ज्ञान के प्रवेशद्वार सीलबंद होंगे तो नई सोच विकसित नहीं होगी।


Responses


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /home/justneemuch/public_html/description.php on line 378

Leave your comment