शिवराज ने चिट्ठी लिखकर कानून व्यवस्था पर उठाए सवाल, CM कमलनाथ ने दिया ये जवाब!

मध्य प्रदेश में बीजेपी नेता और मंदसौर नगर पालिका अध्यक्ष प्रह्लाद बंधवार को गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम कमलनाथ को चिट्ठी लिखी है. शिवराज सिंह ने सीएम कमलनाथ को लिखी चिट्ठी में प्रदेश की कानून और सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं. शिवराज ने इंदौर में हुए बिल्डर संदीप अग्रवाल की हत्या का भी जिक्र करते हुए मांग की है कि प्रह्लाद बंधवार की हत्या मामले की उच्च स्तरीय जांच की जाए. साथ ही संदीप अग्रवाल के हत्यारोपियों पर भी कड़ी कार्रवाई की जाए.

सीएम कमलनाथ ने भी बिना देर किए शिवराज सिंह के चिट्ठी का जवाब दे दिया है. सीएम कमलनाथ ने प्रदेश में हुई हत्या की दोनों घटनाओं पर दुख जताते हुए जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया है. सीएम ने लिखा है, ‘आप विश्वास रखिए आरोपी शीघ्र ही सलाखों के पीछे होंगे'.

सीएम कमलनाथ ने शिवराज की चिट्ठी का जवाब देते हुए लिखा है-
"इंदौर में हुई संदीप अग्रवाल की हत्या की घटना व आज मंदसौर में हुई नगरपालिका अध्यक्ष प्रह्लाद बंधवार की हत्या की घटना बेहद दुखद व निंदनीय है. मैंने पुलिस प्रशासन को सख़्त निर्देश दिये हैं कि दोनों हत्याकांड की शीघ्र जांच कर आरोपियों को गिरफ़्तार कर, पूरे मामले का जल्द से जल्द ख़ुलासा किया जाए. दोषी कितना भी बड़ा हो, उसे बख़्शा नहीं जाएगा. आप विश्वास रखिये, आरोपी शीघ्र ही सलाखों के पीछे होंगे. मेरी सरकार क़ानून व्यवस्था के पालन को लेकर गंभीर है. इसमें किसी प्रकार के अपराधी के लिये कोई रियायत नहीं है."


शिवराज की लिखी चिट्ठी


सीएम कमलनाथ ने शिवराज की चिट्ठी को जनता की चिंता से अधिक राजनीतिक बताते हुए लिखा है कि- "पत्र के माध्यम से लगाये गये आरोपों से ऐसा लग रहा है कि आपका यह पत्र अपराधों के प्रति चिंता कम, राजनीति से प्रेरित ज़्यादा लग रहा है. आप चिंता मत करिये मेरी सरकार में हमेशा पुलिस का ही मनोबल ऊंचा रहेगा. मेरी सरकार कभी भी गुंडों-अपराधियों का मनोबल ऊंचा नहीं होने देगी और ना ही उनके हौसले बुलंद होने देगी. यह ज़रूर सच है कि पिछले कई वर्षों से उनके मनोबल व हौसलों में जो वृद्धि हुई है, उसे मेरी सरकार जड़ से ख़त्म कर करके रहेगी.
इतना ही नहीं सीएम कमलनाथ ने शिवराज के शासन में 2 साल पहले हुए ट्विंकल डागरे हत्याकांड पर अभी तक कार्रवाई नहीं किए जाने पर सवाल पूछ लिया. कमलनाथ ने लिखा कि- "इंदौर की ही एक बेटी ट्विंकल डागरे जो कि पिछले 2 वर्षों से ग़ायब थी. जिसका परिवार पिछले 2 वर्षों से ही उसकी हत्या की आशंका जताकर दर- दर गुहार लगा रहा था. आरोपियों को राजनैतिक संरक्षण प्राप्त होने के आरोप भी लगाता रहा. उसके हत्याकांड के 2 वर्ष बाद अभी हाल ही में ख़ुलासा हुआ है. बड़ी जघन्यता से उसकी हत्या की गयी है. मैंने इस हत्याकांड के ख़ुलासे के बाद इसकी भी जांच के आदेश पुलिस प्रशासन को दिये है कि पता लगाया जाये कि क्या कारण रहा जो पिछले 2 वर्षों में इस केस का ख़ुलासा नहीं हुआ. आरोपियों को किसका राजनैतिक संरक्षण प्राप्त था, ख़ुलासा किया जावे. इसके दोषियों को बख़्शा नहीं जावे."