गुवाड़ी में घुसकर मारपीट करने वाले 04 आरोपीयों को सजा एवं जुर्माना।

जावद। श्री संजीव कुमार पालीवाल, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, जावद द्वारा चार आरोपीयों को गुवाड़ी मे प्रवेश कर मारपीट करने के आरोप का दोषी पाकर न्यायालय उठने तक के कारावास एवं कुल 8400रू. जुर्माने से दण्डित किया। जिला अभियोजन अधिकारी श्री आर. आर. चौधरी द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि घटना लगभग 06 वर्ष पुरानी होकर दिनांक 19.10.2013 की रात्रि के 01ः00 बजे ग्राम आंबा, थाना-रतनगढ़ जिला-नीमच की है। फरियादी स्व. उदयलाल ने दिनांक 19.10.2013 को चौकी जाट में उपस्थित होकर रिपोर्ट की है कि रात्रि 01ः00 बजे वह अपनी गुवाड़ी (ढालिया) में सो रहा था व उसकी मॉ भंवरीबाई उसके पास सो रही थी, तो आरोपी घीसालाल उसकी गुवाड़ी में आकर जोर-जोर से चिल्लानें लगा व उसकी मॉ को लकड़ी से मारपीट करने लगा, जिससे उसकी मॉ को चोटें आई, वह उसकी मॉ को बचाने लगा तो उसके साथ नारायण व जगदीश ने धक्का-मुक्की कर हाथापाई की व आरोपी बाबुलाल ने उसके सिर मे उल्टी कुल्हाड़ी मारी जिससे उसे भी चोट लगी व खुन निकलने लगा। जिसकी रिपोर्ट फरियादी ने पुलिस थाना रतनगढ़ में की, जिस पर से अपराध क्रमांक 201/13, धारा 451, 323/34 भादवि का पंजीबद्ध हुआ। विवेचना के दौरान दोनों आहतों का मेडिकल कराकर, साक्षीगण के कथन व आरोपीगण की गिरफ्तारी कर शेष विवेचना उपरांत चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया। श्री रमेश नावडे, एडीपीओ द्वारा अभियोजन पक्ष की ओर से न्यायालय में विचारण के दौरान फरियादी सहित सभी आवश्यक गवाहों के बयान कराकर अपराध को प्रमाणित कराया गया। श्री संजीव कुमार पालीवाल, न्यायिक दण्डिधिकारी प्रथम श्रेणी, जावद द्वारा आरोपीगण (1) घीसालाल पिता चुन्ना भील, उम्र-65 वर्ष, (2) नारायण पिता घीसालाल भील, उम्र-45 वर्ष (3) जगदीश पिता घीसालाल भील, उम्र-35 वर्ष तथा (4) बाबुलाल पिता छोगालाल, उम्र-30 वर्ष चारों निवासी-ग्राम आम्बा, थाना रतनगढ़ जिला-नीमच को धारा 323/34 भादवि (एकमत होकर मारपीट करना) में न्यायालय उठने तक के कारावास व 5600रू. के जुर्माने तथा धारा 451 भादवि (बाडे़ में घुसकर अपराध करना) न्यायालय उठने तक के कारावास व 2800रू. के जुर्माने से दण्डित किया। न्यायालय में शासन की ओर से पैरवी श्री रमेश नावडे, ए.डी.पी.ओ. द्वारा की गई।