पत्थर और लट्ठ से मार-मार कर हत्या करने वाले दों आरोपीयों को आजीवन कारावास एवं जुर्माना।

मनासा। श्री आर. के. शर्मा, द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश, मनासा द्वारा एक व्यक्ति को खेत में पत्थर और लट्ठ से मार-मार कर हत्या करने के आरोप का दोषी पाकर दों आरोपीयों को आजीवन कारावास एवं कुल 5000-5000रू. जुर्माने से दण्डित किया।अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी श्री जगदीश चौहान द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि घटना लगभग 02वर्ष पुरानी होकर दिनांक 24.02.2017 को रात के 7ः30 बजे की है। फरियादीया केशुराम अपने घर से खेत पर जा रहा था तभी उसके मोबाईल पर मृतक बगदीराम की लड़की का फोन आया ओर उससे कहा कि पापा का आरोपीगण रामलाल और प्रभुलाल से झगड़ा हो गया है, और वह अभी तक घर नहीं आये है। तुम उनको खेत पर जाकर देख आओ, उसी समय मांगीलाल का भी फोन आया उसने भी यहीं बात कही। जब फरियादी ने मृतक बगदीराम के खेत पर जाकर देखा तो बगदीराम खेत के किनारे पाईप के पास उल्टा पड़ा था तथा उसका सीर खेत मे धंसा हुआ होकर पिछे से कूचला हुआ था और खून निकल रहा था। मौके पर उपस्थित आरोपीगण रामलाल व प्रभुलाल खडे़ थे फरियादी ने उनसे पूछा कि तुमने बगदीराम को क्यों मारा तो आरोपीगण बोलें की स्टार्टर की बात को लेकर बगदीराम गाली-गलौच कर रहा था। इसलिए रामलाल ने पत्थर से और प्रभुलाल ने लट्ठ से बगदीराम को मारा। फरियादी केशुराम ने उक्त सारी घटना गांव के ही नंदराम को फोन से बताई, तत्पश्चात थाना प्रभारी रामपुरा अमित सारास्वत द्वारा फरियादी द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर देहाति नालसी कायम की, व पोस्टमार्डम करवाने के बाद एफ. आई. आर. अपराध क्रमांक 45/17, अंतर्गत धारा 302/34 भादवि के अधिन आरोपीगण के विरूद्व पंजीबद्व किया। बाद विवेचना उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया गया। न्यायालय में अभियोजन पक्ष के सभी आवश्यक साक्षियों के साक्ष्य करायें गये। जिस पर से श्री आर. के. शर्मा, द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश, मनासा द्वारा आरोपीगण (1) प्रभुलाल पिता मोती मीणा, उम्र-54 वर्ष, (2) रामलाल पिता प्रभुलाल, उम्र-25 वर्ष, निवासी-अमरपुरा, थाना-रामपुरा, तहसील मनासा, जिला-नीमच को धारा 302/34 भादवि (एकमत होकर हत्या करना) में आजीवन सश्रम कारावास व कुल 5000-5000रू. के जुर्माने से दण्डित किया। न्यायालय में शासन की ओर से पैरवी श्री जगदीश चौहान, एडी.डी.पी.ओ. द्वारा की गई।